what is internet,internet history and owner of inter



नमस्कार दोस्तों कैसे है आप ,आशा करता हु आप सभी सही होंगे, दोस्तों आज मैं आपसे शेयर करूँगा कि इन्टरनेट क्या है, इन्टरनेट की हिस्ट्री क्या है ,ये कैसे काम करता है,इन्टरनेट का मालिक कौन है | तो चलिए शरू करते है |


WHAT IS INTERNET, INTERNET HISTORY, INTERNET OWNER
WHAT IS INTERNET, INTERNET HISTORY, INTERNET OWNER
इन्टरनेट क्या है
जब हम दो या दो से ज्यादा नेटवर्क को जोड़कर एक ऐसा कनेक्शन बनाना जिससे हम आपस में इनफार्मेशन शेयरिंग कर सकते है वह इंटरनेट कहलाता है, तो आगे बढकर हम लोग बात करेंगे कि इन्टरनेट की हिस्ट्री क्या है |
तो मैं आपको बता दू सन 1960 से सन 1970 के बिच इन्टरनेट का जन्म हुआ था | US के कुछ साइंटिस्ट्स ने और सुरक्षा एजेंसीज ने ARPANET यानी की (ADVANCE RESERACH PROJECT AGENCY NETWORK) बनाया था ,वैसे तो इन्टरनेट को किसी एक व्यक्ति ने नहीं बनाया था लेकिन फिर भी इनमे दो लोगो का नाम आता है , VINT CERF और BOB KAHN |
इन दोनों ने मिलकर ARPANET बनाया था,शुरुआत में  सिर्फ और सिर्फ कम्युनिकेशन, रिसर्च और ख़ुफ़िया एजेंसी की जानकारी की लेन देन ,आदान प्रदान के लिए यूज किया जाता था , तो चलिए आपको बताता हु |
इन्टरनेट काम कैसे करता है
 
इसे हम आसानी से समझ सकते है , CLIENT – ISP – SERVER , अर्थात क्लाइंट ISP के द्वारा सर्वर तक पहुचता है और वह से फाइल को डाउनलोड कर लेता है तो यह एक आसान  प्रोसेस है|
इसको और एक आसान तरीके से समझाता हु मान लीजये एक विडियो को आपको डाउनलोड करना है तो उसके लिए सबसे पहले हम लोग क्या करते है , अपने कंप्यूटर या मोबाइल में ब्राउज़र खोलते है फिर उसमे गूगल पर वो गाना या विडियो को टाइप करते है तो गूगल हमे वो सर्च करके रिजल्ट देता है और फिर हम लोग उस वेबसाइट पर जाते है और वह से एक डाउनलोड लिंक मिलता है ,और उस लिंक पर क्लिक करके हम लोग अपना गाना या विडियो डाउनलोड कर लेते है| तो इस पुरे प्रोसेस में जो हम लोग डिवाइस उसे करते है उसे CLIENT कहते है और जो हम लोग कनेक्शन या SIM उसे करते है उसे ISP अर्थात इन्टरनेट सर्विस प्रोवाइडर कहते है, जो हमे सर्वर तक ले जाते है, डाउनलोड  पूरा हो जाने पर सर्वर हमारे डाटा को डिवाइस के स्टोरेज में सेव कर देता है |इस पूरी प्रोसेस में डिस्ट्रीब्यूटर पैकेट स्विच नेटवर्क का यूज किया जाता है जिससे डाटा अपने बहुत ही फ़ास्ट प्रोसेस से डेस्टिनेशन तक पहुच जाता है | डिस्ट्रीब्यूटर पैकेट स्विच नेटवर्क का मतलब होता है जेसे हम कोई इमेज अगर डाउनलोड करे तो वो पूरी फोटो एक साथ डाउनलोड नहीं होती है बल्कि वो फ्रेम के रूप में अर्थात कई भागो में बट जाती है और एक एक करके हमारे सिस्टम में आती जाती है |जिससे डेटा का स्पीड कई गुना ज्यादा तेज हो जाता है |तो ये तो रहा कि इन्टरनेट काम कैसे करता है |
इन्टरनेट का मालिक

अब कई लोगो का सवाल ये भी है कि इन्टरनेट का मालिक कौन है , तो देखिये इन्टरनेट का मालिक कोई एक व्यक्ति या इंसान नहीं है , इन्टरनेट को कई बड़ी कम्पनीज आपस में मिलकर साझा करती है और इन्टरनेट सर्विस प्रोवाइड  कराती है | और सभी कम्पनीज के अपने अपने डेटा सर्वर होते है और वही से हमे साड़ी जानकारिय मिलती है |
तो आज के लिए बस इतना ही , जाते जाते आपको बता दू कि भारत में 15 अगस्त सन 1995 में इन्टरनेट की शुरूआत हुई थी , और उस समय इन्टरनेट की स्पीड 9.6 KB/SEC थी, उस समय डाटा का बहुत कम यूज होता है और आज के समय में आप जानते ही है की जिओ नेटवर्क क्रांति सी ला दी है , और डाटा यूज के मामले भारत नम्बर वन है |
दोस्तों अगर आपको मेरी ये पोस्ट पसंद आई हो तो अपने दोस्तों शेयर करिए और मेरे ब्लॉग को सब्सक्राइब कीजिये | तब तक के लिए
जय हिन्द जय भारत|
Previous
Next Post »